Top Menu

दुनिया का पहला online book store :-

दोस्तों आज मै बताऊंगा world के पहले online book store Amazon के बारे में ,दोस्तों क्या आप जानते है की सबसे पहला online book बेचने वाली कंपनी कौन थी ? मै बताता हूँ ‘Amazon.com’ । जी हाँ amazon.com ही जिसे पहला e-commerce कंपनी कहा जा सकता है। जिससे आप घर बैठे books खरीद सकतें है ।online book store amazon story

 online book amazonjeff bejos biography
Amazon को start जेफ़ बेजोस ने किया था उनका जन्म 1964 में हुआ था ,इन्होने ही इंटरनेट से online shopping का युग शुरू किया।  जो new york के में एक fund manager के पोस्ट पे job करते थे । जेफ़ बेजोस 1994 में एक दिन जब वो नेट पे surfing कर रहे थे तभी उनको पता चला की internet का उपयोग करने वालो की संख्या बहुत तेजी से बढ़ रही है , अरे आप कही ये तो नहीं सोच रहे की 1994में internet कहाँ होता था , अरे भाई मै america की बात कर रहा हूँ वहा पे उस waqt नेट अमेरिका में बहुत तेजी से बढ़ रहा था।

तो जब उन्हें पता चला की इन्टरनेट users बहुत तेजी से बढ़ रहे हैं और उनकी संख्या 2300 % के हिसाब से बढ़ रही है । तो जेफ़ के मन में अचानक एक idea आया की जब इतनी तेजी से इन्टरनेट बढ़ रही है तो क्यों न online business शुरू किया जाये ।  दोस्तों क्या आप जानते है की अप्रैल 1994 का यही वो दिन था जिसने दुनिया को पूरी तरह से बदल दिया , इसी दिन से online shopping की शुरुआत हुई ।

और इस idea को हकीकत में करने के लिए उन्होंने सोचना शरू किया , और इस idea ने उनके दिमाग में ऐसे बैठ गया की उन्होंने अपनी अच्छी खासी नौकरी छोड़ दी । उनके लिए ऐसा करना बहुत बड़ा risk लेना था क्यों की उसी समय उनकी नयी नयी शादी हुई थी लेकिन उन्होंने कुछ सोचा नहीं क्यों की उन्हें तो नए युग की शुरुआत करनी थी ।

 online book Jeff-Bezos jeff bezos image inspirational story company profile

फिर उन्होंने 20-25 product की लिस्ट बनाई जिससे नेट से online बेचा जा सके , जैसे books, software,hardware parts,C.D । और इस सबमे से जेफ़ ने books को select किया क्यों की books को बहुत आसानी से और वो भी वो भी बहुत कम लागत में online बेचा जा सकता था। “जेफ़ ने ये business एक गैराज में शुरू किया था बेजोस ने गैराज में एक घंटी लगाई थी , जब आर्डर आता था तो ये घंटी बजने लगती थी , इस समय तो सब ठीक था लेकिन जब आर्डर बढ़ने लगे तो तो जेफ़ ने घंटी को हटा दिया , आपको पता है की वो घंटी आज बज रही होती तो क्या होता जेफ़ का सोना मुश्किल हो जाता ,क्यों की आज amazon पे हर सेकंड में बहुत से आर्डर आते हैं ।

जेफ़ अपने कंपनी का नाम पहले कैद्ब्रा.com  रखे  थे लेकिन फिर उन्होंने amazon.com रखा क्यों की amazon नदी दुनिया की सबसे बड़ी नदी है और आज amazon.com भी दुनिया का सबसे बड़ी bookसेलर है ।

Amazon.com जून 1995 में start हुई थी starting में वह पे सिर्फ 3 employee ही काम करते थे ,और आज उसमे 183000 employee काम करते हैं amazon ने starting के 4 साल में ही market value 6 अरब dollar हो गई ,2010 में कंपनी ने 34.2 अरब dollar की selling की ।2007 में amazon ने kindle नाम से e book लांच किया . और इसने लोगो के book पढने के तरीके को ही बदल दिया ।2010 में 80 kindle सेल हुए ,kindle से इस कंपनी को बहुत फायदा हुआ क्यों की इससे शिपिंग का खर्च बच जाता था। क्युकी इससे लोग ebook को online download करने लगे थे ।”

आज  इस कंपनी की वैल्यू 175 billion dollar है आज amazon electronic से लेके मोटरसाइकिल तक बेचतीं है,amazon ने india में आने में बहुत देरी की अगर वो पहले ही आ जाती तो online book store  flipkart.com india में success नहीं हो पाती , आज amazon के बहुत से product software hosting, alexa और भी बहुत से हैं।

“ तो आपने देखा की एक कंपनी गैराज से शुरू होके बड़े कंपनी में बदल गई “

तो इसलिए मै कहता हूँ की e commerce को शुरू करने के लिए बड़े ऑफिस या store की जरुरत नहीं हैं । बस आप के idea में दम होना चाहिए ।

सभी story पढने के लिए यहाँ click करें ..

दोस्तों ये पोस्ट अच्छी लगे तो शेयर और कमेंट जरुर कैरे…..


संता  बंता से :- घड़ी और बीवी में क्या अंतर है ?

बंता:- एक बिगडती है तो बंद  हो जाती है और दूसरी बिगडती है तो चालू हो जाती है “


 

About The Author

Hello, I am Amit .i am hindi blogger.Myhelpblog.com website pe aap wordpress blog ,computer,online business,internet,inspirational story ki knowledge apko milegi.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

Close